Backlink क्या है और High Quality Backlink कैसे बनायें?

Post a Comment

Backlink क्या है और High Quality Backlink कैसे बनायें? Full Guide

नमस्कार दोस्तों हिंदी टेक बुक में आपका स्वागत है। आज हम इस पोस्ट में आपको यह बताने वाले हैं कि बैकलिंक क्या है और हाई क्वालिटी बैकलिंक्स कैसे बनाएं? जितने भी पुराने ब्लॉकर्स होते हैं उनको ब्लैक लिंक के बारे में अच्छे तरीके से पता होता है लेकिन नए ब्लॉकर्स को बैंक लिंक क्या है यह समझने में थोड़ी परेशानी होती है इसलिए आज के टॉपिक में हम बेकली के बारे में पूरी विस्तार से जानेंगे कि आखिर बैकलिंक कैसे काम करता है और हम जैकलिन की मदद से अपने ब्लॉग पोस्ट को गूगल सर्च इंजन में हायर पोजिशन पर कैसे रैंक करा सकते हैं?

यदि आप एक नए ब्लॉगर हैं तो आपको बैक लिंक कैसे बनाना चाहिए और बैंक लेंगे का किस तरह से इस्तेमाल करना चाहिए इन सब के बारे में हम स्टेप बाय स्टेप डिटेल गाइड देंगे। तो चलिए शुरू करते हैं कि बैकलिंक क्या होता है और बैकलिंक किस तरह से बनाया जाता है।


बैकलिंक क्या होता है? Blog के लिए कैसे बनाएं?

बैकलिंक एक प्रकार की लिंक होती है जो एक वेबसाइट किसी दूसरी वेबसाइट के पोस्ट या पेज को अपनी पोस्ट या पेज से कनेक्ट करती है। आसान शब्दों में कहें तो जब हम किसी वेबसाइट के लिंक को अपनी वेबसाइट में लगाते हैं तो वह लिंक उस वेबसाइट के लिए बैकलिंक बन जाते हैं और जब हम अपनी वेबसाइट के लिंक को किसी दूसरी वेबसाइट पर लगाते हैं तो वह लिंक हमारी वेबसाइट के लिए बैकलिंक कहलाती है। बैंक लिंक को इनबॉउंड लिंक या इनकमिंग लिंक के नाम से भी जाना जाता है।

बैंक लिंक बनाने के लिए आपको अपने ब्लॉक के एक पोस्ट से दूसरे पोस्ट में इंटरनल लिंकिंग करना चाहिए ऐसा करने से आपके पोस्ट को सर्च इंजन में रंग करने में बूस्ट मिलती है इंटरनल लिंकिंग को हम पैक लिंक तो नहीं कह सकते लेकिन बैकलिंक की ही तरह काम करती हैं। इसके लिए आपको दूसरी साइड की मदद नहीं लेनी पड़ती है।


बैकलिंक कितने type के होते हैं? (Type Of Backlinks)

यूं कहें तो बैकलिंक मुख्यतः दो प्रकार की होती है पहले दोफॉलो बैकलिंक्स और दूसरी नो फॉलो बैकलिंक

1. Dofollow backlink

दोफॉलो बैकलिंक्स उस तरह की बैकलिंक होती है जो इसी वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर लिंक जूस को पास करने में मदद करती है यानी कि जब हम किसी दूसरी साइड से अपनी साइट पर दो फॉलो बैक नहीं बनाते हैं तो उस वेबसाइट की डोमिनो 3D और भेजो तेरी यारी का इफेक्ट भी हमारे ब्लॉक पर पड़ता है। यदि हम अच्छी वेबसाइट से अपनी वेबसाइट के लिए फॉलो बैक नहीं बनाएंगे तो हमारी वेबसाइट को उस वेबसाइट की मदद से सर्च इंजन में रैंक कराना आसान हो जाएगा इसलिए आप जब भी दोफॉलो बैकलिंक्स बनाएं तो किसी अच्छी साइट से ही बनाएं।


2. Nofollow Backlink

No follow back link उस तारा की बैकलिंक होती है जो किसी वेबसाइट के पेज रैंक को दूसरी वेबसाइट तक पहुंचने नहीं देती है यानी कि यदि हम किसी वेबसाइट से अपनी वेबसाइट के लिए नो फॉलो बैक लिंक लेते हैं तो उस वेबसाइट की डोमेन और 3डी पेज और चैरिटी जा उस लिंक से मिलने वाला लिंक जूस हमारी वेबसाइट तक नहीं पहुंच पाता है। सीधे शब्दों में कह दो नो फॉलो बैक लिंक बनाने से एक वेबसाइट दूसरी वेबसाइट के एसीईओ में मदद नहीं करती है।


Dofollow बैकलिंक्स Nofollow बैक लिंक में क्या अंतर होता है?

Do follow back link किसी वेबसाइट से मिलने वाले पेजरैंक को दूसरी वेबसाइट में पास करने में मदद करती है जबकि नो फॉलो बैक लिंक के यूज़ से पेजरैंक पास नहीं हो पाता है

दोफॉलो बैकलिंक्स एचटीएमएल में गोरिल्ला एंड टैग नहीं होता है जबकि नो फॉलो बैक लिंक के एचटीएमएल में न्यू फॉलो का रिलेवेंट लगा रहता है आप इसे उदाहरण के माध्यम से भी समझ सकते हैं।

<a href="https://www.hinditechbook.com" rel="nofollow">click here</a>


बैकलिंक किस तरह से बनाना चाहिए?

यदि आप यह जानना चाहते हैं कि बैक लिंक किस तरह से बनाना चाहिए इस पूरे पोस्ट को बहुत ही ध्यान से पढ़ें ताकि आप बैटरी बनाने के बारे में अच्छी तरह से समझ सके। आप अपने ब्लॉग के लिए जितना ज्यादा हो सके उतना बैकलिंक बनाइए लेकिन आपको यह कोशिश करना चाहिए कि अब जब भी बैकलिंक बनाएं तो अच्छी वेबसाइट ओं से ही बैकलिंक बनाएं।

यदि आप अच्छी वेबसाइट ओं से बैकलिंक नहीं बनाएंगे तो उन बैकलिंक्स का कोई महत्व नहीं रह जाएगा इसलिए सबसे पहले आप जब भी ब्लॉग पोस्ट लिखें तो उस ब्लॉग पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें और उन्हें भी आगे शेयर करने को कहें। इससे आपके ब्लॉक की पहचान जल्दी से built-up होती है लोगों को आपके ब्लॉग के बारे में जानने का मौका मिलता है। लेकिन ब्लॉग पोस्ट को शेयर करने के लिए स्पैमिंग करने से बचना चाहिए।


Backlink बनाने के कितने तरीके हैं?

यदि आप किसी ब्लॉक को जल्दी से रंग कराना चाहते हैं तो आपको ज्यादा से ज्यादा बैंक लिंक बनाना चाहिए। हम पहले यह जान लेते हैं कि बैंक लिंक बनाने के कितने तरीके हैं? आज के समय में एक वेबसाइट के लिए बैक लिंक बनाना बहुत ही आसान है। बैंक लिंक बनाने के लिए कई तरीके उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ तरीकों को हम आपके साथ शेयर कर रहे हैं।

1.Quality Article लिखें

बैंक लिंक बनाने के लिए सबसे जरूरी चीज यह होती है कि आपको अपने ब्लॉग में क्वालिटी कंटेंट लिखना पड़ता है। क्योंकि यदि आप किसी दूसरी वेबसाइट से अपनी वेबसाइट के लिए बैकलिंक बनाना चाहते हैं तो वह वेबसाइट सबसे पहले यह देखती है कि आपकी वेबसाइट पर किस तरह के कंटेंट हैं आपकी वेबसाइट पर अच्छे कंटेंट होंगे तभी कोई दूसरी वेबसाइट आपके पोस्ट या पेज के लिए बैकलिंक देगी। इसलिए आपको ज्यादा से ज्यादा क्वालिटी कंटेंट लिखने पर ध्यान देना चाहिए।


2. Guest Post लिखें

बैकलिंक बनाने का दूसरा तरीका यह है कि आप किसी दूसरी वेबसाइट पर जाकर गेस्ट ब्लॉगिंग कर सकते हैं गेस्ट पोस्ट का मतलब यह होता है कि आपको अपने ब्लॉग के नीच से रिलेटेड किसी दूसरे ब्लॉक पर एक अच्छा सा कंटेंट लिखना पड़ता है जिसमें आप अपने ब्लॉग का लिंक दे सकते हैं यह भी एक तरह की दोफॉलो बैकलिंक्स होती है।


3. Comment Se Backlink

बैक लिंक बनाने का तीसरा तरीका आया है आप अपने ब्लॉग से रिलेटेड किसी दूसरे ब्लॉग पोस्ट को पढ़ें और उस पोस्ट एक कमेंट बॉक्स में अपनी राय दें और इसके साथ अपने किसी पोस्ट या पेज का लिंक भी लिख दें। इस टाइप की बैक लिंक न्यू फॉलो बैक लिंक होती है


4. Social Sharing करें

अपने ब्लॉग के लिए बैंक लिंक बनाने का एक तरीका यह भी है कि अपने ब्लॉग के यूआरएल को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि फेसबुक ट्विटर टंबलर पिंटरेस्ट इत्यादि पर ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। इससे यह होता है कि आप कब आपके ब्लॉक पोस्ट का यूआरएल जहां भी शेयर किया जाता है वहां से लोग आपकी वेबसाइट पर विजिट करता हूं जो आपके ब्लॉग के लिए एक रेफरल ट्रैफिक का काम करता है इसे भी आप चाहे तो बैकलिंक मान सकते हैं।


Backlink बनाने का सबसे आसान तरीका क्या है?

 बनाने का सबसे आसान तरीका यह है कि आज जितना ज्यादा हो सके अपने ब्लॉग को उतना ज्यादा शेयर करें सोशल नेटवर्किंग साइट पर अपने प्रोफाइल बनाएं और उसमें अपनी बहरे बारे में अच्छी तरीके से डिस्क्राइब करें इसके बाद अपने ब्लॉग का यूआरएल भी उस में लिखें। ऐसा करने से कोई भी सोशल नेटवर्किंग साइट आपके प्रोफाइल को देखनी है और पहले यह समझती है कि आपका प्रोफाइल जनून है इसके लिए आपको अपने डिस्क्रिप्शन बिल्कुल ही अच्छा लिखना चाहिए तभी वह आपके लिए बैकलिंक देगी।

इसके लिए आप गूगल में अपने ब्लॉग से रिलेटेड किसी भी कीबोर्ड को सर्च करें और टॉप टेन वेबसाइट पर जाकर उनके पोस्ट को पढ़ें और उसके कमेंट बॉक्स में उस पोस्ट के बारे में के बारे में अच्छी इंफॉर्मेशन लिखें और उसके साथ ही अपनी वेबसाइट का बैक लिंक पर वहां पर डालने।


बैकलिंक बनाने के क्या फायदे होते हैं?

यदि आप हाई क्वालिटी Site से बैकलिंक बनाते हैं तो बैंक बनाने से बहुत सारे फायदे मिलते हैं।

  1. बैक लिंक बनाने से आपके ब्लॉग के पोस्ट या पेज को fast indexing में मदद मिलती है।
  2. High quality की बैकलिंक बनाने से आपके ब्लॉक की सर्च रैंकिंग भी इंप्रूव होती है इसलिए जितना हो सके ज्यादा से ज्यादा हाई क्वालिटी की पैकिंग बनाएं।
  3. जब आप किसी दूसरी वेबसाइट से अपनी वेबसाइट के लिए बैकलिंक लेते हैं तो आप चाहें तो उस वेबसाइट के लिए अपनी वेबसाइट से बैंक लिंक दे सकते हैं इससे इन दोनों वेबसाइटों के बीच में अच्छा रिलेशन बना रहता है।
  4. बैक लिंक बनाने से आपके ब्लॉक की डोमेन अथॉरिटी और Page Authority को भी इंप्रूव करने में मदद मिलती है।


किस type की बैकलिंक नहीं बनाना चाहिए?

यदि आप एक न्यू ब्लॉगर हैं और चाहते हैं कि आपका ब्लॉक गूगल में जल्दी से रंग करें तो आप हमारा यह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

कई सारे नए ब्लॉकर्स जल्दी से जल्दी ज्यादा बैंक लिंक के चक्कर में गलत वेबसाइट से बैकलिंक ले लेते हैं जिसका उनके ब्लॉग के seo पर नेगेटिव इफेक्ट पड़ता है इसलिए बैकलिंक बनाते समय ध्यान रखें कि उन्हीं वेबसाइट ओं सब एक लिंक बनाएं जिनका स्पैम स्कोर काफी कम हो और उनका डीएवी ज्यादा से ज्यादा हो।


Conclusion

आज की पोस्ट में हमने यह सीखा कि Backlink क्या है और High Quality Backlink कैसे बनायें? ऊपर दिए गए सारे टिप्स को ध्यान से पढ़ कर अपने ब्लॉग के लिए अच्छे तरीके से बैकलिंक बना सकते हैं। यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जरूर शेयर करें। इस पोस्ट के बारे में आप अपने विचार कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं। आप चाहे तो ब्लॉगिंग से रिलेटेड किसी भी प्रकार के सवाल को कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

धन्यवाद!

Related Posts

Post a Comment