Blogger Ki Basic Settings Ke Baare Mein Puri Jankari

Post a Comment

ब्लॉगर की Basic Settings के बारे में पूरी जानकारी | Blogger Settings | Advance

ब्लॉगर में नया ब्लॉग बनाने के बाद कुछ important settings भी करनी पड़ती हैं, जिनका सीधा असर आपके ब्लॉग के SEO और traffic पर पड़ता है। Blogger Blog में दो तरह की सेटिंग्स करनी होती हैं, एक basic settings और दूसरी advance settings. हम इस पोस्ट में सिर्फ बेसिक सेटिंग्स की बात करेंगे।

नमस्कार दोस्तों Hindi Tech Book में आपका स्वागत है। आज की पोस्ट में हम बात करने वाले हैं ब्लॉगर की बेसिक सेटिंग्स करने के बारे में। यदि आपने नया ब्लॉग बना लिया है और article लिखकर पैसा कमाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अपने ब्लॉग ही बेसिक सेटिंग्स करनी पड़ेगी। जिनके बारे में हम इस पोस्ट में step by step जानकारी देंगे।
Blogger Ki Basic Settings Ke Baare Mein Puri Jankari
Blogger Ki Basic Settings Ke Baare Mein Puri Jankari

यदि आपने अभी तक नया ब्लॉग नहीं बनाया है तो हमारे पोस्ट में जाकर आज ही new blog बनाएं। तो चलिए शुरू करते हैं ब्लॉगर की Basic Settings के बारे में पूरी जानकारी।

ब्लॉगर की Basic Settings के बारे में स्टेप बाय स्टेप जानकारी

Blogger में कुछ ऐसी सेटिंग होती है जिनको करने या ना करने से आपके ब्लॉग के SEO पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है, लेकिन कुछ ऐसी भी सेटिंग्स होती हैं जिनका सीधा असर आपके ब्लॉग के SEO पर पड़ता है। इन सेटिंग्स को बहुत ही carefully सेट अप करना चाहिए।

अधिकतर new bloggers अपना blog बनाने के बाद ब्लॉगर की सेटिंग पर ध्यान नहीं देते हैं जिसकी वजह से उनकी वेबसाइट सही तरीके से optimize नहीं हो पाती है। किसी वेबसाइट को गूगल में रैंक करवाना आसान नहीं है लेकिन यदि आप सही ढंग से मेहनत करते हैं तो आपकी वेबसाइट जल्दी ही गूगल मे rank करने लगती है और आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक भी आने लगता है।

ब्लॉगर की बेसिक सेटिंग्स को आप अपने मोबाइल में भी कर सकते हैं इसके लिए आपको पीसी या लैपटॉप की जरूरत नहीं पड़ती है। यदि आपके पास सिर्फ मोबाइल ही है तो आप मोबाइल में भी आसानी से ब्लॉग बना सकते हैं और उसकी सेटिंग कर सकते हैं।

आज इस पोस्ट में हम स्टेप बाय स्टेप ब्लॉगर की बेसिक सेटिंग्स के बारे में सीखेंगे 

ब्लॉगर में सेटिंग्स करने का स्टेप बाय स्टेप तरीका

ब्लॉगर में बेसिक सेटिंग्स करने के लिए आपको blogger के dashboard में जाना पड़ेगा। डैशबोर्ड में आने के बाद वह ब्लॉग चुनें जिसकी आप सेटिंग करना चाहते हैं। अब सेटिंग के ऑप्शन पर क्लिक करें जिससे आपको सारे सेटिंग्स दिखाई देंगे, जिनको एक एक करके आपको set up करना है।

1. Basic

Settings की लिस्ट में सबसे ऊपर पहला ऑप्शन Basic रहता है। बेसिक के ऑप्शन में आपको और 6 ऑप्शन दिखाई देंगे जो नीचे बताए गए हैं।

I. Title

सेटिंग्स में सबसे ऊपर आपको Title का ऑप्शन दिखाई देगा। इस ऑप्शन पर क्लिक करके इसमें अपने ब्लॉग का Title लिखना है। जैसे मेरे ब्लॉग का नाम हिंदी टेक बुक है तो मैं टाइटल में Hindi Tech Book लिखूंगा।

II. Description

Title के नीचे आपको Description का ऑप्शन दिखाई देगा। इसमें आपको अपने ब्लॉग के बारे में लिखना है। आपका ब्लॉग जिस नीच पर आधारित हो उस से Related Keywords को Description में जरूर यूज करें। Description में Maximum 500 शब्द होने चाहिए।

III. Blog Language

Description के नीचे Blog Language का ऑप्शन होता है। उसको क्लिक करने पर आपको लैंग्वेज की List दिखाई देगी। इनमें से आपको वह भाषा Select करनी है जिस भाषा में आपका ब्लॉग है। यदि आपका ब्लॉग हिंदी में है तो आप हिंदी भाषा को Select करेंगे या फिर आपकी भाषा अंग्रेजी में तो अपनी भाषा English में Select करेंगे।

IV. Adult Content

Blog Language के नीचे Adult Content का ऑप्शन होता है। इसमें दो ऑप्शन और होते हैं। पहला Show Warning To Blog Readers और दूसरा Requires Age Confirmation. आपको इन दोनों ऑप्शन को बंद रखना है।

V. Google Analytics Property ID

पांचवें नंबर पर Google Analytics Property ID का ऑप्शन होता है। इसमें आपको गूगल एनालिटिक्स पेज पर जाकर अपनी वेबसाइट के लिए एक Universal Tracking Code बनाना होता है। जिस में दिए गए Code को कॉपी करके इस ऑप्शन में Paste करना होता है।

VI. Favicon

छठे नंबर पर Favicon का ऑप्शन आता है। यह एक तरह का Small Type का लोगो होता है जो ब्राउज़र के Address Bar में वेबसाइट के URL से पहले दिखाई देता है। Favicon का Extension ICO(.ico) रहता है। Favicon के बारे में विस्तार से पढ़ें- Blogger Ke Liye Favicon Kaise Banaye?

2. Privacy

दूसरा ऑप्शन Privacy का होता है। इसके नीचे एक ऑप्शन दिखाई देता है।

I. Visible To Search Engines

इस ऑप्शन को Enable करने पर आपका ब्लॉग सभी Search Engine के लिए Visible रहता है। अगर आप इसको Disable कर देंगे तो आपका ब्लॉग किसी भी सर्च इंजन के रिजल्ट में दिखाई नहीं देगा। इसलिए इस ऑप्शन को हमेशा ऑन रखना चाहिए

3. Publishing

तीसरा ऑप्शन Publishing का होता है। इसमें आपको चार ऑप्शन दिखाई देंगे।

I. Blog Address

Publishing में पहला ऑप्शन Blog Adress का होता है। आप जब नया ब्लॉग बनाते हैं तब इसमें ब्लॉक का एड्रेस लिखते हैं।

II. Custom Domain

आप जब भी नया Blog बनाते हैं तो आपके ब्लॉक का एड्रेस example.blogspot.com type का रहता है। जिसमें Example शब्द Blogspot.com का एक Subdomain रहता है। यानी आपकी वेबसाइट एक Subdomain में ही रहती है। यदि आप अपनी वेबसाइट के एड्रेस में Blogspot को हटाना चाहते हैं, तो आपको Custom Domain की जरूरत पड़ती है। जिसको आप Godaddy, Namecheap, Google Domain इत्यादि Domain Registrar से खरीद सकते हैं। डोमेन नेम खरीदने के बाद Custom Domain वाले ऑप्शन में डोमेन का नाम पेस्ट करना होता है। Custom Domain को Add करने के बारे में जानने के लिए यह पोस्ट पढ़ें- ब्लॉगर में Custom Domain कैसे लगाए?

III. Fallback Subdomain

Fallback Subdomain Blogger आपकी वेबसाइट के Subdomain की तरह होता है, जो आपकी Current Website के Down होने पर काम में लिया जाता है।

IV. Redirect Domain

Redirect Domain एक बहुत ही Important ऑप्शन है। जब आप अपनी वेबसाइट में कस्टम डोमेन Add करते हैं तो आपकी वेबसाइट बिना WWW(World Wide Web) के ही दिखाई देती है। यदि आप चाहते हैं कि आपकी वेबसाइट के यूआरएल में www दिखाई दे तो आपको इस ऑप्शन को Enable कर देना चाहिए।

4. HTTPS

चौथा ऑप्शन HTTPS का होता है। यह आपकी वेबसाइट को SSL Certificate पर Run करवाने के लिए होता है। इसमें दो ऑप्शन होते हैं।

I. HTTPS Availability

इस ऑप्शन को हमेशा On रखना चाहिए। जब आपकी वेबसाइट पर SSL Certificate इंस्टॉल रहेगा। तब आपको Available का ऑप्शन दिखाई देगा।

II. HTTPS Redirect

HTTPS Availability को On करने के बाद जब आपको Available लिखा हुआ दिखाई दे, तो HTTPS Redirect भी इनेबल कर दें। इससे यह फायदा होगा कि कोई आपकी वेबसाइट को सिर्फ HTTP पर ओपन करेगा तो यह Automatically HTTPS Redirect हो जाएगी।

5. Permissions

पांचवें नंबर पर Permissions का ऑप्शन रहता है। इसमें आपकी वेबसाइट से संबंधित Admins, Authors और Readers के लिए Permissions सेट कर सकते हैं।

I. Blog Admins And Authors

इस ऑप्शन पर क्लिक करने पर आपको आपके ब्लॉग के Admin और Authors की लिस्ट दिखाई देगी।

II. Pending Author Invites

जब कभी आप किसी Authors को अपना ब्लॉग लिखने के लिए Invite करेंगे और जब तक वह आपके Invitation को Accept नहीं करेगा तब तक उसकी Email Id इस ऑप्शन में दिखाई देगी।

III. Invite More Authors

यदि आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग के Articles को कोई और लिखें तो आप इस ऑप्शन में जाकर उस व्यक्ति की E-mail Id से उसको इनवाइट कर सकते हैं।

IV. Reader Access

इस ऑप्शन में आपको तीन और ऑप्शन दिखाई देंगे। पहला Public दूसरा Private To Authors और तीसरा Custom Readers. यदि आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग को कोई भी व्यक्ति Visit कर सके, तो आपको Public का ऑप्शन सेलेक्ट करना चाहिए। बाकी दोनों ऑप्शन को आप अपने हिसाब से सेट कर सकते हैं। Basically आपको इसे पब्लिक पर ही सेट करना चाहिए

6. Posts

इसमें आपके ब्लॉक पोस्ट से संबंधित कुछ सेटिंग्स होती हैं।

I. Max Posts Shown On Main Page

इस ऑप्शन में आपको Number Of Posts सेट करने होते हैं जितने कि आप अपने Blog के Homepage पर दिखाना चाहते हैं। यदि आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग के होम पेज पर 10 पोस्ट दिखाई दें, तो आप इसमें 10 लिखकर Save कर सकते हैं।

II. Post Template (Optional)

यदि आप चाहते हैं कि आप जब भी पोस्ट Create करने जाएं तो आपको Post Editor में पहले से ही कुछ लिखा हुआ मिले। वह Word या Sentence आप इस ऑप्शन में लिखकर सेव कर सकते हैं।

III.Image Lightbox

यदि आप अपने ब्लॉग पोस्ट में Images का यूज करते हैं, तो इस ऑप्शन को Enable कर देने से जब कोई आपके Blog Post पर किसी इमेज को Click करता है, तो वह इमेज उसी पेज में खुलती है। लेकिन इस ऑप्शन को Off कर देने से Image दूसरे पेज पर खुलती है। Basically इसको Enable ही रखना चाहिए।

Conclusion

आज हमने ब्लॉगर की Basic Settings के बारे में पूरी जानकारी सीखा। आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो कमेंट करके हमें जरूर बताएं और सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर भी करें। Blogging से संबंधित कोई भी सवाल आपके मन में हो तो कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं। हम आपके सवालों को हल करने की पूरी कोशिश करेंगे।
धन्यवाद!

Related Posts

Post a Comment